Pages

Sunday, December 11, 2011

अल्फाजों को मेरे...  डांट कर चुप कराती है...   खामोशी मेरी..... कितना शोर मचाती है..... 

1 comment:

Ravi Tolani said...

Love your words.. and shayri